Photo by Polina Tankilevitch from Pexels

Diaper rash in infants |Hindi| शिशुओं में डायपर रैश

आज के इस बदलते समय में मनुष्य नए – नए तकनीकी साधनों का प्रयोग करने लगा है । आज विज्ञान इतना आगे बढ़ चुका है कि मनुष्य का जीवन अत्यंत आरामदायक हो चुका है । बच्चे हों या बूढ़॓ सबके लिए बाज़ार में ज़माने के अनुसार नई चीजें आ चुकी हैं । डायपर भी उन्हीं में से एक है । आजकल डायपर का इस्तमाल करना आम हो चुका है । डायपर की वजह से माता – पिता तथा शिशु दोनों को सुविधा रहती है । कई बार माता – पिता इतने व्यस्त हो जाते हैं कि शिशुओं का डायपर बदलना भूल जाते हैं । इसी वजह से उनके शिशुओं को रैश भी हो जाते हैं । उन्हीं सब कारणों और उनके उपायों के बारे में मैं आपलोगों को बताऊँगी । तो आइए जानते हैं Diaper rash in infants/ शिशुओं में डायपर रैश ।

शिशुओं की त्वचा अत्यंत नाज़ुक और संवेदनशील होती है । छोटी सी छोटी लापरवाही उनके त्वचा को नुकसान पहुँचा सकती है । इसलिए उनका ध्यान अच्छी तरह रखना पड़ता है । बच्चों में सबसे ज्यादा परेशानी Diaper rash की वजह से होती है । Diaper rash in infants/ शिशुओं में डायपर रैश के बारे में जानने से पहले निम्न बातों को जानें । सर्वप्रथम आपको यह जानने की आवश्यकता है कि डायपर रैश क्या होता है ?

Newborn Baby Care

डायपर रैश एक तरह की त्वचा की जलन होती है । ये बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्शन की वजह से होते हैं । यदि आपके शिशुओं के गुप्तांगों में लाल चकत्ते दिखाई दें तथा वहाँ जलन हो । तो आप समझ लें कि आपके बच्चे को डायपर रैश हुआ है । इसके अतिरिक्त आपके शिशु के डायपर पहनने वाली जगह की त्वचा रूखी – सी हो गई हो । इसके साथ ही वहाँ इतना जलन हो कि बच्चा दिन भर रोते रहे । ऐसी सम्भावनाओं को देखते हुए आप जान सकते हैं कि आपके शिशु को डायपर रैश हुआ है । अब बात करते हैं यह समस्या होती क्यों है ? इसके कारण क्या हैं ?

Cause of Diaper Rash / कारण – डायपर रैश के कई कारण हैं -

1) यदि शिशु अत्यधिक समय तक एक ही डायपर में रहे तो यह समस्या ज्यादा हो सकती है । शिशु के डायपर को हर 2 – 3 घंटों में बदलते रहना चाहिए । यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो डायपर और त्वचा में स्थित नमी और (Bacteria) जीवाणु से शिशु को डायपर रैश होने की सम्भावना रहती है । गीले और गंदे डायपर से शिशु की त्वचा आसानी से कमजोर हो जाती है । उन्हें खुजली भी शुरु हो जाती है । अत: उस स्थान पर आपके बच्चे को जलन और असहज महसूस होता है ।

2) यदि आपके शिशु को दस्त हुआ हो तो उस समय भी डायपर रैश होने की सम्भावना अधिक होती  है । अत: उस समय कोशिश करें कि आपके शिशु के डायपर पहनने वाली जगह सूखी रहे ।

3) खान – पान में बदलाव और (antibiotics) एंटीबायोटिक्स के कारण भी रैश हो सकते हैं । जब बच्चे के खाने में कोई नई चीज जुड़ती है तो उससे भी Rash होने की सम्भावना रहती है । छोटे बच्चों को किसी भी तरह का अचानक बदलाव सहन नहीं होता है । जब बच्चे बीमार हों उन्हें जल्द एंटीबायोटिक्स नहीं देना चाहिए । इससे बच्चे को डायरिया होने की सम्भावना रहती है । यदि किसी वजह से उन्हें खाना भी पड़॓ तो कुछ बच्चों को उससे रैशेज की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

www.publicdomainpictures.net

4) अत्यधिक टाइट डायपर पहनने से भी यह समस्या हो सकती है । डायपर खरीदते समय कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए । जैसे आपके बच्चे का वजन कितना है या उसकी उम्र कितनी है । आप कोशिश करें कि अपने बच्चे को एक साइज़ बड़ा डायपर पहनाएँ । इससे उसे रैशेज होने की सम्भावना कम होगी । इन सब बातों का ध्यान रखकर डायपर खरीदना चाहिए ।

5) यदि आपके शिशु की त्वचा अत्यंत संवेदनशील है तो इस कारण से भी डायपर रैश हो सकता है । इसलिए बिना जाँच किए कोई भी लोशन इत्यादि अपने बच्चे की त्वचा पर न लगाएं ।

6) डायपर के ब्रैंड या disposal baby wipes में बदलाव के कारण भी डायपर रैश होने की सम्भावना होती है । अपने बच्चे के लिए किसी एक ही अच्छे ब्रैंड की वस्तुओं का प्रयोग करें । बार – बार प्रोडक्ट्स बदलने से बच्चे को चकत्ते निकल सकते हैं । अपने बच्चे के डिटर्जेंट, साबुन, क्रीम, लोशन, पावडर इत्यादि किसी भी चीज में बदलाव ना करें । इससे भी डायपर रैश हो सकता है ।

अब बात करते हैं डायपर रैश से बचने के कुछ आसान से उपाय । जिनका पालन करने से आपके बच्चे की त्वचा में होने वाले डायपर रैश की सम्भावनाओं को आसानी से कम किया जा सकता है ।

Remedies / उपाय – डायपर रैश से बचने के कई उपाय हैं -

1) बच्चे के डायपर को समय-समय पर बदलते रहें । कई लोग अपने आराम की खातिर दिन भर एक ही डायपर में अपने बच्चे को रख देते हैं । इससे बच्चे का डायपर भर जाता है । अत: गंदगी तथा गीलेपन की वजह से शिशु को लाल चकत्ते निकल जाते हैं । इसलिए माता – पिता को समय के अनुसार बच्चे का डायपर बदल देना चाहिए । यूं तो अच्छे ब्रैंड के डायपर कई घंटों तक पहनाकर रखा जा सकता है । लेकिन फिर भी जब बात अपने बच्चे की सुरक्षा की होती है तो अतिरिक्त ख्याल रखना आवश्यक है । 

2) डायपर बदलते समय बच्चे के कूल्हों और गुप्तांगों को अच्छी तरह गुनगुने पानी से साफ करें । ध्यान रहे साफ करने वाला कपड़ा भी अच्छी तरह धुला हुआ हो । आप साफ करने के लिए अच्छे ब्रैंड के Baby wipes का भी इस्तमाल कर सकते हैं । इसके बाद साफ तौलिए से तुरंत सूखा भी दें ।

3) बच्चे को ज्यादा टाइट डायपर ना पहनाएँ । अत्यधिक टाइट डायपर के कारण शिशु के निचले हिस्से की त्वचा को हवा नहीं लग पाती है । इससे उनकी त्वचा नम पड़ जाती है और डायपर रैश होने की सम्भावनाएं बढ़ जाती हैं । इसके साथ ही टाइट डायपर से जाँघों में रगड़ भी लग सकती है ।

www.publicdomainpictures.net

4) एक अच्छे ब्रैंड के डायपर का ही इस्तमाल करें । छोटे बच्चों का ख्याल बहुत सही तरीके से रखना चाहिए । बच्चे के जन्म के समय ही यह तय कर लेना चाहिए कि कौन सा डायपर उसके लिए सही है । इसके लिए आपको यह ध्यान रखना होगा कि कौन से डायपर में डबल लीक गार्ड हो । डबल लीक गार्ड वाले डायपर 12 घंटों के उपयोग के बाद भी रिसाव से 100% सुरक्षा प्रदान करते हैं । वैसे डायपर्स में एलोवेरा बेबी लोशन भी मौजूद होते हैं । ऐसे डायपर्स बच्चे की त्वचा को डायपर रैशेज और जलन से बचाव में मदद कर सकते हैं । एक अच्छे ब्रैंड के डायपर्स के ऊपरी भाग कॉटन से बने होते हैं और काफी आरामदायक होते हैं । ऐसे डायपर हर साइज तक उपलब्ध होते हैं । जरूरत के अनुसार इसके छोटे और बड़॓ पैकेट भी उपलब्ध होते हैं ।    

5) डायपर बदलने से पहले अपने हाथों को जरूर धोएं । हम दिन भर अपने कामों में अत्यंत व्यस्त रहते हैं ।  इसलिए हमें ध्यान ही नहीं रहता है कि हमारे हाथों में कितने किटाणु जम गए हैं । ऐसे में यदि हम बिना हाथ धोए अपने बच्चे का डायपर बदलेंगे तो बच्चे को इंफेक्शन हो सकता है । इसलिए आवश्यक है आप अपने बच्चे को साफ हाथों से ही छूएं ।

6) जब बच्चे को डायपर रैश हो जाए तो डॉक्टर द्वारा दिए गए (prescribed medicated lotion) लोशन को ही लगाएँ । कोई भी बाज़ार के (products) उत्पादों का न इस्तमाल करें । इसके साथ ही आप नारियल तेल का भी इस्तमाल कर सकते हैं । नारियल का तेल आपके बच्चे के शरीर पर फंगस इंफेक्शन तथा यीस्ट इंफेक्शन होने से रोकता है । इससे आपके बच्चे को राहत महसूस होगी । आप दिन भर में कई बार नारियल तेल डायपर एरिया में लगा सकते हैं।

7) कई डॉक्टर पेट्रोलियम जेली का इस्तमाल करने के लिए कहते हैं । पेट्रोलियम जेली बच्चे की रैश वाली त्वचा को मुलायम रख सकती है । लेकिन इसका इस्तमाल बिना डॉक्टर की सलाह लिए बगैर ना करें । इसमें कई तरह के (Chemicals) रासायनिक पदार्थ होते हैं जो आपके बच्चे की त्वचा के लिए सही नहीं है ।

8) अपने शिशु को नहलाते समय सफाई पर विशेष ध्यान दें । एक अच्छे ब्रैंड के साबुन और शैम्पू का इस्तमाल करें । इसके साथ ही बच्चे के शरीर के हर एक कोने को अच्छे से साफ करें । नहलाते समय डेटॉल या कोई भी एंटीसेप्टिक लिक्विड का इस्तमाल करें । इससे बच्चे के शरीर में कोई भी इंफेक्शन या बीमारी जल्दी नहीं फैलेगी । इसके पश्चात् साफ तैलिया से बच्चे के शरीर को पोछ दें ।

9) बच्चे के नाज़ुक अंगों को थोड़ी देर के लिए खुली हवा लगने दें । दिनभर पसीने की वजह से भी (rashes) चकत्ते हो सकते हैं । इसके साथ ही खुली हवा लगने से बच्चे को आराम भी महसूस होगा ।

pixabay.com/?utm_source=link-attribution&utm_medium=referral&utm_campaign=image&utm_content=161342">Pixabay

10) छोटे बच्चे को धीरे – धीरे (Solid materials) ठोस पदार्थों का सेवन करवाएँ । एकाएक ठोस पदार्थ खिलाने से उनका पॉटी (मल) में बदलाव आने लगता है । इस बदलाव के कारण मल कभी कम होता है तो कभी बार–बार । बार-बार मल होने की वजह से रैशेज होने की सम्भावना रहती है । इसलिए बच्चे को ठोस पदार्थों का सेवन एकाएक ना करवाएँ ।

11) अपने शिशु के कपड़ों को अलग से हल्के डिटर्जेंट में धोएँ । ऐसा करने से कोई भी रसायन उसके कपड़ों में नहीं रहेंगे । रसायन नहीं होंगे तो उन्हें किसी भी प्रकार के रैशेज होने की सम्भावना कम होगी ।  

अंत में मैं यही कहना चाहती हूँ कि किसी भी घरेलू उपक्रमों का उपाय बिना डॉक्टर की सलाह लिए बगैर ना करें । छोटे बच्चे अत्यंत नाज़ुक होते हैं । उनपर किसी भी तरह का प्रयोग ना करें जिससे बाद में उन्हें तकलीफ हो । अत: मैंने जो Diaper rash in infants/ शिशुओं में डायपर रैश के कारण और उपाय बताए हैं उससे आपको अवश्य मदद मिलेगी ।

आपको मेरा लेख Diaper rash in infants/ शिशुओं में डायपर रैश कैसा लगा कृपया कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएँ । इसके साथ ही आप यदि कोई सुझाव देना चाहते हैं तो वह भी दे सकते हैं ।

Leave a Comment