Angry

10 Tips to control babies anger |Hindi| बच्चों के गुस्से को नियंत्रित करने के 10 उपाय

क्रोध एक सामान्य मानवीय भावना है। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि दो महीने की उम्र के बच्चे भी क्रोध प्रदर्शित करते हैं । क्रोध किसी भी उम्र के बच्चे में पाया जाता है । जब बच्चों की जरूरतें पूरी नहीं होती है तो वे अलग-अलग तरीके से अपने क्रोध को प्रकट करते हैं । जिससे लोग उनपर ध्यान दें और उनकी बात मान जाएं । बच्चे जब थोड़॓ बड़॓ होते हैं तो उनमें ‘self ‘ / ‘स्व’ की भावना विकसित हो जाती है । वे केवल अपने बारे में सोचने लगते हैं । वे तरह-तरह से अपना क्रोध दर्शाते हैं । वे अपना क्रोध Desperation/ हताशा, Disregard/ अवहेलना या Anger/ गुस्से के रूप में व्यक्त करते हैं । आपके इन्हीं परेशानियों को दूर करने के लिए मैं आपके समक्ष कुछ आसान से 10 Tips to control babies anger/बच्चों के गुस्से को नियंत्रित करने के 10 उपाय प्रस्तुत करूँगी । जिसे अपनाकर आप अपने बच्चे के गुस्से पर नियंत्रण पा सकते हैं ।

crying baby

गुस्सा करना बच्चे के सेहत के लिए अत्यंत नुकसानदायक होता है । अक्सर बच्चे रोकर, जमीन पर लोटकर, घर के सामानों को फेंककर अपना गुस्सा प्रदर्शित करते हैं । सार्वजनिक स्थलों पर जब बच्चे ऐसा करते हैं तो माता-पिता काफी परेशान हो जाते हैं । किसी भी माता – पिता के लिए उनके बच्चे का भविष्य बहुत बड़ी चुनौती होती है । यदि उनका बच्चा बात-बात पर क्रोधित होता है तो उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है । उन्हें बस एक ही चिंता सताते रहती है कि वे अपने बच्चे के इस क्रोध करने की प्रवृत्ति को कैसे सुधारें । ऐसे में उन्हें कुछ समझ नहीं आता है कि वे अपने बच्चे के इस व्यवहार के लिए क्या करें । बच्चों में गुस्सा प्रकट करने की यह आदत बहुत आम है । एक निर्धारित उम्र के बच्चों में यह प्रवृत्ति आ जाती है । लेकिन आप इससे बिल्कुल भी ना घबराएँ । आइए बात करते हैं 10 Tips to control babies anger/बच्चों के गुस्से को नियंत्रित करने के 10 उपाय –

  1. स्वयं शांत रहें –

जब भी आपका बच्चा गुस्सा करे सबसे पहले आप स्वयं शांत रहें । जब तक आप में संयम नहीं रहेगा आपका बच्चा भी शांत नहीं होगा । बच्चे हर चीज अपने माता- पिता से ही सीखते हैं । यदि उसके साथ आप भी गुस्सा करेंगे तो उसमें भी कभी संयम की भावना नहीं आएगी । आज के इस भागदौड़ वाली ज़िंदगी में चारों तरफ परेशानियाँ ही हैं । आजकल प्राय: माता-पिता working/ कामकाजी हैं । दिन भर की थकान के बाद अभिभावक प्राय: अपने बच्चों की किसी गलती पर नाराज होकर चिल्ला देते हैं । इसतरह का वर्ताव सरासर गलत है । आपको ऐसा करते देखकर आपका बच्चा भी यही सिखेगा । वह भी आपके साथ ऐसा ही व्यवहार करने लगेगा ।

screaming baby
smiling baby
  1. ध्यान भटका दें –

जब आपका बच्चा क्रोधित हो तुरंत उसका ध्यान भटकाने की कोशिश करें । उसके साथ दूसरी बातें करें । कई बार चीजें नहीं मिलने पर बच्चे रोने तथा चिल्लाने लगते हैं । यदि हम उनका ध्यान भटका दें तो वे बहुत ही आसानी से शांत हो जाएंगे । इसके साथ ही उनका क्रोध भी गायब हो जाएगा ।

  1. भरपूर समय दें –

अपने बच्चे को भरपूर समय दीजिए । कई बार बच्चे बड़ों का ध्यान खींचने के लिए भी गुस्सा करने लगते हैं । जब लोग उनपर ध्यान नहीं दे रहे होते हैं तब वे गुस्सा दिखाकर लोगों का ध्यान खींचने की कोशिश करते हैं । इसलिए जरूरी है कि अपने बच्चे को भरपूर समय दिया जाए । उसे यह न लगे कि उसपर कोई ध्यान नहीं देता है ।

Family time with baby
  1. हिंसक प्रवृत्ति से बचें –

अपने बच्चे पर किसी भी कीमत पर हाथ मत उठाइए । बच्चों का हृदय कोमल होता है । मारने – पीटने से वे हिंसक प्रवृत्ति के बन जाते हैं । वे कभी भी आपकी इज़्ज़त नहीं करेंगे बल्कि आपके प्रति उनके मन में डर पैदा हो जाएगा । अपनी छोटी-छोटी गल्तियों को आपसे छुपाने लगेंगे । फलस्वरूप आपके ऐसे वर्ताव से उनके दिमाग पर बुरा असर पड़॓गा ।

Playing kids
  1. शारीरिक गतिविधियों पर ध्यान दें –

अपने बच्चों को ज्यादा से ज्यादा Physical activities/ शारीरिक गतिविधियों के लिए प्रेरित करें । उनसे रोजाना व्यायाम करवाएँ । ज्यादा से ज्यादा खेल-कूद करवाएँ । Sports/ खेल – कूद या exercise/ व्यायाम करने वाले बच्चों को गुस्सा कम आता है । कुछ बच्चे दिन- भर टीवी या मोबाइल में लगे रहते हैं । इससे उनका दिमाग कभी भी विकसित नहीं होगा । इसलिए जरूरी है उनसे ज्यादा से ज्यादा भाग-दौड़ वाले खेल खेलने के लिए प्रेरित करें । इसके साथ ही उनसे Meditation/ ध्यान भी करवाएँ । ध्यान करने से भी गुस्सा कम आता है ।

.

  1. नींद पूरी होने दें –

बच्चे की भरपूर मात्रा में नींद अत्यंत आवश्यक है । बच्चा पर्याप्त मात्रा में नींद लेगा तो उसका मन भी शांत रहेगा । यदि बच्चे की नींद ना पूरी हो तो वह पूरे दिन चिड़चिड़ाए रहता है और रोते रहता है । बात – बात पर गुस्सा भी दिखाता है । इसलिए आवश्यक है कि उसे रात में जल्दी सुला दें ।

Sleeping baby
studying baby
  1. अत्यधिक अनुशासित न हों –

बच्चों पर अत्यधिक discipline/ अनुशासन भी न रखें । उनके साथ खेलें तथा उन्हें ढ़॓र सारा प्यार दें । उनके साथ चित्र बनाएँ, इंडोर गेम्स इत्यादि करवाएँ । कहने का तात्पर्य है कि अपने बच्चे के साथ एक मित्र की तरह रहें ।

  1. स्वास्थ्य पर ध्यान दें –

बच्चे के health/ स्वास्थ्य पर अत्यंत ध्यान दें । कमज़ोर बच्चों को गुस्सा जल्दी आता है । अपने बच्चे के गुस्से को नियंत्रण करने में भोजन की अहम भूमिका होती है । उन्हें जहाँ तक सम्भव हो ताजा पकाया हुआ भोजन ही देना चाहिए । कोल्ड स्टोरेज में रखा भोजन नहीं खाना चाहिए । इसके साथ ही चिप्स के बदले फल का आनंद लेने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करें । भोजन का दिमाग पर सीधा प्रभाव पड़ता है । इसलिए बच्चे को समय पर भोजन का सेवन कर लेना चाहिए । इससे उनके स्वभाव या दृष्टिकोण पर एक निश्चित प्रभाव पड़ता है ।

Healthy baby
  1. सराहना करें –

यदि बच्चा अच्छा काम करे तो दूसरों के सामने उसकी प्रशंसा करें । इससे उसे लगेगा कि लोग उसके अच्छे कामों को भी ध्यान देते हैं न कि केवल बद्माशियों को । इसलिए उसकी सराहना करते रहना चाहिए ।

  1. आक्रामकता से बचें –

यदि आपका बच्चा Aggressive/ आक्रामक है तो अपनी खुद की जीवन-शैली देखें । आपको इस बात का हर समय ध्यान देना होगा कि आप अपने आस – पास के लोगों पर आक्रामक व्यवहार ना करें । वयस्क और बच्चे दोनों के लिए समान नियमों को लागू करने की आवश्यकता है । अपने बच्चे के सामने किसी भी इंसान पर गुस्सा ना दिखाएँ ।

Screaming Girl

अंत में मैं यही कहना चाहती हूँ कि आप अपने व्यवहार में शालीनता लाइए । आपका बच्चा स्वयं शालीन प्रवृत्ति का बन जाएगा । अत: आप 10 Tips to control babies anger/बच्चों के गुस्से को नियंत्रित करने के 10 उपाय पर ध्यान दें । इन उपायों पर ध्यान देने से आपका बच्चा जल्दी ही अपने गुस्से पर नियंत्रण करना सीख जाएगा ।  

आपको मेरा लेख 10 Tips to control babies anger/बच्चों के गुस्से को नियंत्रित करने के 10 उपाय कैसा लगा कृपया कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएँ । इसके साथ ही आप यदि कोई सुझाव देना चाहते हैं तो वह भी दे सकते हैं ।

Leave a Comment